Category Archives: Hindi

२० मिनट में एक Ktor बैकएंड विकसित करें।

पिछले हफ्ते कोलकोटा कोटलिन यूजर ग्रुप ने एक ऑनलाइन मीटअप का आयोजन किया था जिसमें साथी डेवलपर एनरिक लोपेज़ मानास ने Ktor वेब फ्रेमवर्क का त्वरित अवलोकन किया।

मीटअप को meetup.com पर प्रकाशित किया गया था और उपस्थित लोग YouTube पर प्रस्तुति को लाइव देख सकते थे। उपस्थित लोग YouTube लाइव प्रस्तुति पर भी टिप्पणी कर सकते हैं और उन टिप्पणियों को मॉडरेटर्स रिवू और अत्री, एनरिक को सूचित कर रहे थे। रिवू और अत्री कोलकाता कोटलिन यूजर ग्रुप के मीटअप आयोजक हैं।

गलत स्क्रीन डिस्प्ले की तकनीकी त्रुटि के कारण, पहले अट्ठाईस मिनट के प्रस्तुतीकरण का पालन करना आसान नहीं होगा। इसलिए, मेरा सुझाव है कि आप वीडियो को अट्ठाईसवें मिनट से देखना शुरू करें। प्रस्तुति के अंतिम दस मिनटों में एनरिक ने Ktor वेब फ्रेमवर्क की मूल बातें कही।

क्या openSUSE Asia Summit 2020 अब भी भारत में होगा ?

इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए हमें जुलाई के महीने तक इंतजार करना होगा।

१७ मार्च को openSUSE Board की बैठक हुई। यह निर्णय लिया गया कि इस समय हम केवल COVID-19 की स्थिति देख सकते हैं और जुलाई तक इंतजार कर सकते हैं जब बोर्ड द्वारा openSUSE.Asia Summit और oSLO 2020 को लेकर कुछ निर्णय लिया जाएगा।

तब तक सुरक्षित रहें और यदि आप का देश लॉकडाउन में हैं तो कृपया घर पर रहें।

अगला openSUSE Asia Summit भारत में होगा

पिचले सितंबर को Bali, Indonesia के Udayana University में openSUSE Asia Summit 2019 घटित हुआ। लगातार दो दिनों तक दुनिया के कोने कोने से आए हुए इंजीनियरों, डेवलपर्स, डिजाइनरों और कइ तरह के openSUSE योगदानकर्ताओं ने मिलकर तकनीकी प्रदर्शन तथा अन्य कार्यशालाएँ आयोजित कीं।

इस सम्मेलन के द्वारा openSUSE समुदाय अपने उपयोगकर्ताओं और योगदानकर्ताओं को एक साथ लाता हें ताकि इन में openSUSE प्रोजैक्ट को लेकर बातचीत हो सके। बोर्ड के सदस्य समुदाय को प्रोजैक्ट से संबंधित जानकारी देते हैं। नए उपयोगकर्ता इस सम्मेलन से बहुत लाभ उठा सकते हैं।

सम्मेलन के समापन समारोह से पहले यह घोषित कि गइ की अगला सम्मेलन, याने कि openSUSE Asia Summit 2020, मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ रिसर्च एंड स्टडीस (Manav Rachna Int'l Institute of Research & Studies), फरीदाबाद, हरियाणा, भारत (Faridabab, Haryana, India) में होगा। इंस्टिट्यूट की प्रतिनिधि, शोभा त्यागी, ने विस्तार से अपना प्रस्ताव बाताया जोकी सम्मेलन के आयोजकों ने स्वीकार किया।